Nag Panchami 2024 | नाग पंचमी कब है? नाग पंचमी कैसे मनाया जाता है?

Nag Panchami 2024 :- दोस्तों आज हम आपको बताएँगे की हमारे देश भारत 2024 में नागपंचमी कब है? तथा नागपंचमी कैसे मनाया जाता है? नागपंचमी क्यू मनाया जाता है?

Nag Panchami

अगर आप जानना चाहते है की नागपंचमी 2024 में कब है? किस महीने में है तथा किस दिन को है ? नागपंचमी के महत्व क्या है तथा इस त्यौहार से सम्बंधित सभी जानकारी जानना चाहते है तो आपको मेरे इस Nag Panchami पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़ना चाहिए.

Nag Panchami 2024 |

आर्टिकल नाम नाग पंचमी कब है?
लाभार्थी भारत देश के सभी राज्य
वर्ष 2024
लाभ नागपंचमी से सम्बंधित सभी जानकारी
2024 में कब है 9 अगस्त दिन शुक्रवार
Artical Site cgyojana.com

नागपंचमी कब मनाया जाता है?

Nag Panchami त्यौहार हमारे देश के हिन्दू सदियों से धूम धाम से मनाते आ रहे आ रहे है. हमारे भारत देश में नागपंचमी त्यौहार हर साल सावन महीने के शुक्ल पक्ष पंचमी को नागपंचमी त्यौहार मनाया जाता है.

Nag Panchami के दिन नागदेवता की पूजा करने के लिए कौन से समाग्री होना आवश्यक है?

नाग पंचमी के दिन नागदेवता की पूजा करने के लिए निम्न्लिखित समग्री का होना आवश्यक है जो निचे हमने बता दिया जो आप बहुत ही आसानी से पढ़कर अपने घर नागदेवता की पूजा करने के लिए समग्री इकट्ठा कर सकते है और विधि के अनुसार अपने घर पूजा कर सकते है.

  • गाय का कच्चा दूध
  • गाय का गोबर
  • शुद्ध गुड और कच्चा चावल
  • सिंदूर
  • अगरबत्ती धुप
  • कपूर
  • पुष्प / फूल
  • पूजा का बर्तन
  • नागदेवता की फोटो
  • पंच मेवा / पंच फल
  • दही / शुद्ध देशी घी / शहद
  • गंगा जल आदि

नागपंचमी 2024 में कब है? नागपंचमी किस महीने में है तथा किस दिन को है?

Nag Panchami त्यौहार हमारे देश में बहुत ही धूम धाम से मनाया जाता है नाग पंचमी नागपंचमी त्यौहार हिंदुओ का त्यौहार है जो सदियों से मनाते आ रहे है. नागपंचमी त्यौहार आपको बता दे की 2023 में आखिर कब आपको नागपंचमी के दिन नागदेवता की पूजा करनी चाहिए. नागपंचमी 2024 में 9 अगस्त दिन शुक्रवारको सुबह से शाम तक मनाया जायेगा.

नाग पंचमी कैसे मनाया जाता है?

Nag Panchami त्यौहार हमारे देश भारत के सभी राज्य में अलग – अलग तरीको से मनाया जाता है लेकिन ज्यादा तरह से हम निचे बता रहे है की नागपंचमी कैसे मनाया जाता है वैसे ही मनाया जाता है.

Nag Panchami हर साल सावन महिना में शुक्ल पक्ष पंचमी के दिन नागपंचमी त्यौहार मनाया जाता है. सबसे पहले आपको नागपंचमी के दिन सुबह में उठकर घर की सफाई कर तथा नहाने के बाद नागदेवता की पूजन करने के लिए समग्री इक्कठा कर लेना है और अपने घर के दिवार पर नागदेवता की आकृति बाना लेनी है. विधि के अनुसार नागदेवता की पूजन कर लेना है और गाय के कच्चा दूध नाग देवता को पिलाना है. उसके बाद आरती भी कर लेनी है और नागदेवता की एक कथा सुनकर वहाँ से उठाना है. इसी दिन शिव मंदिर में भी जाकर शिलिंग पर और नागदेवता जल से तथा गाय के दूध से अभिषेक करना है और नागदेवता को गाय के कच्चा दूध पिलाना है बिधि के अनुसार नागदेवता और शिव की पूजन करना है.

हम बता दे की भारत देश के हर राज्य में नागपंचमी के दिन नागदेवता की पूजन विधि अलग – अलग है.

Nag Panchami क्यू मनाया जाता है? नागदेवता की कथा

Nag Panchami :- एक कालिया नाग था जो युमुना नदी में रहता था. उस कालिया नाग की विष बहुत ही जहरीला था जिसके कारण यमुना नदी का जो भी पानी था वह जहरीला हो गया था जिससे बहुत सी जानवर की मौत हो रही थी तथा जितना वहां के फासले थी वह भी नष्ट हो चुकी थी और पशु भी मर रहे थे. तब भगवान कृष्ण जी ने आकर कलिया नाग को यमुना छोड़कर पताल लोक में भेज कर सभी लोगो के मन में कलिया नाग से भय को हटा दिए. इस दिन से फसल भी अच्छी उगने लगी और पशु जनावर भी ठीक हो गए तब से नागपंचमी मनाया जाता है.

नागपंचमी के महत्व क्या है?

नागपंचमी के दिन नाग देवता की पूजा करने से निम्न्लिखित महत्व है जो निचे आपको बताया गया है जो आप पढ़ कर बहुत ही आसानी से जान सकते है की नागपंचमी के दिन नागदेवता की पूजन करने से महत्व क्या है?

  1. हर साल सावन में शुक्ल पक्ष पंचमी के दिन नागदेवता की पूजा करेंगे तो शिव महादेव खुश होंगे और आपका हर मनोकामना पूरा करेंगे.
  2. नागपंचमी के दिन नागदेवता की पूजा करने से घर की सारी कष्ट दूर हो जाते है और घर में खुशियाँ ही खुशियाँ आती है.
  3. नागदेवता की विधि अनुसार पूजन करेने से रहू , केतु के दुष्प्रभाव को शांत किया जाता है.
  4. जिसके ऊपर सर्प दोष , सर्प से भय होती है तो वह नागपंचमी के दिन नागदेवता की पूजा करके दूर कर सकते है.
  5. इस त्यौहार से हमारे घर के दुःख , दर्द , क्लेश , संकट , बुरा साया दूर हो जाता है.
  6. नागपंचमी के दिन नागदेवता की पूजन करने से माँ लक्ष्मी घर में निवाश करती है और धन में वृधि होती है.

आपको इसे भी पढ़ना चाहिए

Nag Panchami से सम्बंधित कुछ सवाल और जवाब (FAQ)

नागदेवता की पूजा क्यू करते है?

नागदेवता की पूजन करने से शिव खुश होते है और सभी मनोकामना पूर्ण करते है.

Nag Panchami 2024 में शुभ महूर्त कब है?

Nag Panchami 2024 में 9 अगस्त दिन शुक्रवार को सुबह से लेकर शाम तक पूजा कर सकते है.

Nag Panchami के दिन कैसे नागदेवता की आकृति बनाई जाती है?

Nag Panchami के दिन नागदेवता की आकृति घर के दिवार पर गाय के गोबर से बनाई जाती है बिधि के अनुशार पूजन किया जाता है.

नागपंचमी के दिन नागदेवता की पूजन करने से क्या होता है?

नागपंचमी के दिन नागदेवता की पूजन करने से कालसर्प दोष से मुक्ति मिलती है और घर में सुख शांति बनी रहती है. घर में लक्ष्मी निवेश करती है शिव खुश होते है और सभी मनोकामना पूर्ण होती है.

Nag Panchami के दिन कौन सी सामग्री नहीं होने पर पूजा नहीं हो सकती?

Nag Panchami के दिन कुछ हो या ना हो लेकिन गाय का कच्चा दूध होनी चाहिए क्यू नागदेवता गाय का ही कच्चा दूध पीते है.

नाग पंचमी कब मनाया जाता है?

नागपंचमी हर साल सावन मास के शुक्ल पक्ष के पंचमी के दिन नागदेवता की पूजा की जाती है तथा इसी दिन नागपंचमी मनाया जाता है.

नागपंचमी 2024 में कब है?

नागपंचमी 20 24 में 9 अगस्त दिन शुक्रवार को है.

निचे कमेन्ट बॉक्स में अपना सवाल जरुर पूछिए

आशा करती हु यह आर्टिकल  Nag Panchami आपको पसंद आया होगा और आपके मन में जो भी डाउट होंगे नाग पंचमी कब है? नाग पंचमी कैसे मनाया जाता है? को लेकर सभी क्लियर हो गए होंगे.

जैसे : Nag Panchami, नाग पंचमी कब है?, नाग पंचमी कैसे मनाया जाता है?,नागपंचमी कब मनाया जाता है?, नागपंचमी के महत्व क्या है?, नाग पंचमी क्यों मनाई जाती हैं , नागदेवता की पूजा क्यू करते है?,

यदि फिर भी आपका सवाल या सुझाव होगा  Nag Panchami  से सम्बंधित आप निचे कमेन्ट कॉक्स में कॉमेंट कर सकते हैं मैं उसका रिप्लाई जल्द से जल्द करूँगी|

मैंने ऐसे ही दिल्ली सरकार की योजनाओ के ऊपर पोस्ट लिखा है यदि आप उसे पढ़ना चाहते है तो यहाँ क्लिक कर जानकारी ले सकते है.

Leave a Comment